तुम दोस्त बनके ऐसे



तुम दोस्त बनके ऐसे आये ज़िंदगी में की हम ये ज़माना ही भूल ही गए तुम्हे याद आये या ना आये हमारी कभी पर हम तो तेरे बगैर जीना ही भूल गए

  • poetry
  • poetry hindi
  • poetry english